पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत विधानसभा उपचुनाव के लिए दाखिल किया नामांकन,बोला चंपावत इसे आदर्श विधानसभा  बनाएंगे  पुष्कर 

0
267

 

पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत विधानसभा उपचुनाव के लिए दाखिल किया नामांकन बोला  चंपावत इसे आदर्श विधानसभा  बनाएंगे  पुष्कर 

उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत विधानसभा उपचुनाव के लिए नामांकन दाखिल कर दिया है


बता दे कि इस साल मार्च में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में सीएम धामी भीतर घात की वजह से खटीमा ने चुनाव हार गए थे

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (CM Pushkar Singh Dhami) ने चंपावत उपचुनाव के लिए नामांकन कर दिया है. इस दौरान मुख्यमंत्री के साथ चंपावत के पूर्व विधायक कैलाश गहतोड़ी भी मौजूद रहे.
चंपावत उपचुनाव मे कांग्रेस ने चंपावत विधानसभा से इस बार एक महिला को प्रत्याशी बनाया है, चंपावत विधानसभा उपचुनाव के लिए 31 मई को वोटिंग होनी है और 3 जून को रिजल्ट आएगा. नामांकन से पहले मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने खटीमा में अपने गांव नगरा तराई स्थित अपने कुल देवता के मंदिर में गए. जहां उन्होंने जाकर कुल देवता का आशीर्वाद लिया.

वही नामांकन के लिए रवाना होने से पहले मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी गीता धामी ने टीका लगाया और दही खिलाई. वही मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि वो चंपावत से वह चुनाव लड़ने जा रहे हैं. चंपावत देवों की भूमि है. उन्हें विश्वास है कि चंपावत की जनता उन्हें अपना आशीर्वाद देगी. चुनाव जीतने के बाद उनका प्रयास रहेगा कि वह चंपावत को आदर्श विधानसभा बनाएं.


सीएम का रोड शो

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत में एक रोड शो भी किया था. जिसमें पार्टी के कई नेता भी मौजूद रहे. जिसमें भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, उत्तराखंड प्रदेश महामंत्री संगठन अजेय कुमार, प्रदेश सह प्रभारी रेखा वर्मा, विधायक राम सिंह कैड़ा, कैबिनेट मंत्री में सौरभ बहुगुणा, रेखा आर्य ,गणेश जोशी ,चंदन रामदास शामिल रहे.

जनसभा को किया संबोधित
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नामांकन के बाद एक जनसभा को संबोधित किया और अपने पक्ष में वोट करने के लिए भाषण भी दिया.
इस विधानसभा में दो बार कांग्रेस तो 3 बार भाजपा ने जीत हासिल की है. इस बार कांग्रेस ने चंपावत उपचुनाव के लिए महिला को दावेदार बनाया है. कांग्रेस ने पूर्व जिला अध्यक्ष और पूर्व राज्य मंत्री निर्मला गहतोड़ी को उम्मीदवार बनाया है.

 

सीएम के लिए छोड़ी सीट

उत्तराखंड में इसी साल मार्च में विधानसभा चुनाव में पुष्कर सिंह धामी भीतर घात और षड्यंत्र के चलते खटीम से चुनाव हार गए थे. इसके बाद चंपावत सीट से जीत दर्ज करने वाले कैलाश गहतोड़ी ने मतगणना के दिन 10 मार्च को मुख्यमंत्री के लिए चंपावत सीट छोड़ने का प्रस्ताव रखा था. इसके बाद उन्होंने 21 अप्रैल को इस सीट की सदस्यता से इस्तीफा भी दे दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here