डीएम मयूर दीक्षित के सख्त निर्देश : केदारनाथ यात्रा मार्ग में संचालित होने वाले घोड़े-खच्चरों के साथ किसी प्रकार की कोई क्रूरता न हो व बीमार एवं कमजोर घोड़े-खच्चरों का संचालन यात्रा मार्ग में न हो..

0
152

डीएम मयूर दीक्षित के सख्त निर्देश : केदारनाथ यात्रा मार्ग में संचालित होने वाले घोड़े-खच्चरों के साथ किसी प्रकार की कोई क्रूरता न हो व बीमार एवं कमजोर घोड़े-खच्चरों का संचालन यात्रा मार्ग में न हो..

 


केदारनाथ यात्रा मार्ग में संचालित होने वाले घोड़े-खच्चरों के साथ किसी प्रकार की कोई क्रूरता न हो तथा बीमार एवं कमजोर घोड़े-खच्चरों का संचालन यात्रा मार्ग में न हो तथा घोड़े-खच्चरों को गरम पानी मुहैया कराने एवं उनकी निरंतर निगरानी करने के लिए जिलाधिकारी मयूर दीक्षित द्वारा पूर्व में ही पशुपालन विभाग को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।

मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डाॅ. आशीष रावत ने अवगत कराया है कि जिलाधिकारी के निर्देशन में यात्रा मार्ग में संचालित होने वाले घोड़े-खच्चरों के साथ किसी प्रकार से कोई पशु क्रूरता न हो उसकी निगरानी के लिए 30 सदस्यीय म्यूल टास्क फोर्स तैनात की गई है तथा घोड़े-खच्चरों चिकित्सा सुविधा हेतु 7 पशु चिकित्सकों एवं 6 पैरावेट की तैनाती की गई है। यात्रा मार्ग में घोड़े-खच्चरों को गरम पानी उपलब्ध कराए जाने के लिए 13 स्थानों पर बिजली से संचालित गरम पानी के गीजर लगाए गए हैं तथा सौर ऊर्जा द्वारा संचालित 4 गरम पानी के गीजर केदारनाथ घोड़ा पड़ाव, भीमबली, लिनचोली तथा गौरीकुंड घोड़ा पड़ाव में लगाए गए हैं। उन्होंने अवगत कराया है कि घोड़े-खच्चरों के चिकित्सा उपचार हेतु 4 स्थानों जिसमें सोनप्रयाग, गौरीकुंड, बड़ी लिनचोली तथा केदारनाथ रुद्रा प्वाइंट पर एमआरपी बनाई गई है जिनमें डाॅक्टरों द्वारा घायल व बीमार घोड़े-खच्चरों का निरंतर स्वास्थ्य परीक्षण एवं उपचार किया जा रहा है। उन्होंने यह भी अवगत कराया है कि जिलाधिकारी के निर्देशन में इस यात्रा में गरम पानी सहित घोड़े-खच्चरों की देखभाल हेतु उचित प्रबंधन किया गया है। जहां पिछले वर्ष की यात्रा के प्रथम सप्ताह में 19 घोड़े-खच्चरों की मृत्यु हुई थी तथा इस वर्ष की यात्रा के प्रथम सप्ताह में 03 घोड़े-खच्चरों की मृत्यु हुई है। उन्होंने कहा कि घोड़े-खच्चरों के साथ किसी प्रकार की क्रूरता न हो इसके लिए तैनात डाॅक्टरों एवं कार्मिकों द्वारा निरंतर निगरानी की जा रही है।
उन्होंने यह भी अवगत कराया कि नियमों का पालन न करने वाले 61 घोड़े-खच्चरों व मालिकों का चालान किया गया है तथा यात्रा में संचालित न किए जाने वाले 32 घोड़े-खच्चरों को ब्लाॅक किया गया है तथा 02 व्यक्तियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here