उत्तराखंड में भाजपा की फिर बनेगी सरकार या कांग्रेस के हाथ लगेगी बाजी, जाने क्या कहते हैं एग्जिट पोल

0
642

उत्तराखंड में बीजेपी की सरकार दोबार बनेगी या कांग्रेस के हाथ बाजी लगेगी इसको लेकर सभी वोटरों से लेकर सभी राजनैतिक दलों ने मंथन करना शुरू कर दिया है। उत्तर प्रदेश में सोमवार को अंतिम चरण का मतदान खत्म होने के बाद अब सबकी नजर एक्जिट पोल पर टिकी गई हैं। विभिन्न मीडिया माध्यमों और सर्वे एजेंसियों की ओर से किए गए एक्जिट पोल पर सबकी नजरें हैं। इससे उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों में सियासी हवा का अंदाजा लग सकता है।

 

– एबीपी सी वोटर एग्जिट पोल की बात मानें तो कांग्रेस के हाथ 32-38 सीटें आ रही हैं, जबकि भाजपा को 26-32 सीटों पर संतुष्ट होना पड़ेगा आप को दो, जबकि अन्य राजनैतिक दल तीन से 11 सीटें जीत सकते है। ऐसे में दोनों ही राजनैतिक दलों में कांटे की टक्कर साफतौर से देखी जा सकती है।

 

रिपब्लिक- P-MarQ का अनुमान
भाजपा को सीटें: 29-34
कांग्रेस को सीटें: 33-38
बसपा को सीटें: 1-3
अन्य को सीटें: 1-3

– टुडेज चाणाक्य के एक्जिट पोल की बात करें तो इस पोल ने कांग्रेस को नकार दिया है। पोल के मुताबिक, बीजेपी दोबार सरकार बना रही है। भाजपा को विधानसभा चुनाव में 43 सीटें मिल रही हैं, जबकि कांग्रेस को सिर्फ 24 सीटों से संतुष्ट होना पड़ेगा। अन्य राजनैतिक दल तीन 03 सीटें जीतने में कामयाब रहेगी। वोटिंग प्रतिशत की बात करें तो कांग्रेस 39, बीजेपी 41, आप को 9 प्रतिशत और अन्य राजनैतिक दलों को 11 प्रतिशत वोट मिले हैं।

– टाइम्स नाउ के एग्जिट पोल के अनुसार बीजेपी को 46.95 प्रतिशत, कांग्रेस को 35.94 प्रतिशत, आप को 8.25 प्रतिशत और अन्य दलों को 8.86 प्रतिशत वोट मिलते दिख रहे हैं। आपको बता दें कि उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के लिए 14 फरवरी को वोटिंग हुई थी और 10 मार्च को मतगणना होगी।

 

आपको बता दें कि भारत निर्वाचन आयोग ने आठ जनवरी को आचार संहिता लागू करने के साथ ही अंतिम चरण का मतदान समाप्त होने तक सभी प्रकार के एक्जिट पोल पर रोक लगा दी थी। यह रोक सोमवार शाम सात बजे यूपी में अंतिम चरण का मतदान समाप्त होने के साथ ही खत्म हो रही है।

भाजपा: धामी समेत कई हैं कई चेहरे
भाजपा में फिलहाल सीएम के रूप में वर्तमान सीएम पुष्कर सिंह धामी ही सबसे आगे हैं। जुलाई 2021 में वर्तमान सरकार के तीसरे सीएम के रूप में कार्यभार संभालने के बाद धामी ने लगातार उत्तराखंड के कई जिलों के दौरे पर हैं। पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जयप्रकाश नड्डा समेत सभी नेता धामी को भविष्य बताने के साथ ही चुनावी प्रचार में जुटे रहे।

इससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि अगर भाजपा की जीत होती है तो धामी ही उत्तराखंड के अगले मुख्यमंत्री होंगे।हालांकि, पार्टी में मुख्यमंत्री के कई दावेदार हैं, इनमें पूर्व सीएम डा. रमेश पोखरियाल निशंक, पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत, और कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज भी शामिल हैं।

कांग्रेस: रावत, प्रीतम और आर्य-गोदियाल भी
कांग्रेस में जाहिर तौर पर इस वक्त चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष पूर्व सीएम हरीश रावत और नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ही भावी सीएम की दौड़ में शामिल हैं। दोनों के समर्थकों का मानना है कि कांग्रेस के सत्ता में आने पर इनमें ही एक के कंधों पर सीएम का जिम्मा होगा। इन सबके बीच जिस प्रकार दलित सीएम की बात कांग्रेस में आती रही है, उससे यशपाल आर्य का नाम भी इस दौड़ में शामिल हो जाता है। इधर, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल के समर्थक उन्हें छुपे रूस्तम की तरह देख रहे हैं। सत्ता में आने पर सीएम के पद के शीर्ष नेताओं में संघर्ष होने पर गोदियाल भी बाजी मार सकते हैं।

आप: कर्नल कोठियाल ही सीएम
प्रदेश के सभी राजनीतिक दलों में केवल आप ही ऐसा दल है, जिसने सीएम को लेकर कोई असंमजस नहीं रखा है। आप ने काफी पहले ही कर्नल अजय कोठियाल (रि) को अपना सीएम प्रत्याशी घोषित कर दिया है। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने खुद उत्तराखंड आकर उनके नाम का ऐलान किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here